GuruBrahmanSamaj.com

Free Social Services WebPortal

Study Material 16-Jan-2018

🎉 મકરસંક્રંતિની ઉજવણી🎉

👉🏿 આનંદ અને પતંગ નો ઉત્સવ એટલે ઉત્તરાયણ

🎉ઉત્તરાયણ શબ્દ,બે સંસ્કૃત શબ્દ ઉત્તર(ઉત્તર દિશા) અને અયન(તરફની ગતિ) ની સંધિ વડે બનેલ છે. ઉત્તરાયણ (મકરસંક્રાંતિ) એ દિવસ છે જ્યારે સૂર્ય ઉત્તર ગોળાર્ધ તરફ ખસે છે, અને આ ઉનાળો શરૂ થવાનો સંકેત છે. તમામ ઉંમરનાં લોકો હ્રદયમાં ખુશી અનુભવતા, સુંદર વસ્ત્ર પરિધાન કરી અને વહેલી સવારથી પોતાના ઘરની અગાશીઓ પર ચઢી જાય છે.

🎉આ સુંદર દિવસે લાખો લોકો છત અને અગાશીઓ પર ચઢી હર્ષ અને ઉલ્લાસભેર પતંગ ઉડાડવાનો આનંદ માણે છે. આખો દિવસ “કાપ્યો છે!” “એ કાટ્ટા!” “લપેટ લપેટ” જેવી વિવિધ કિકિયારીઓ સાંભળવા મળે છે. આકાશ ઇન્દ્રધનુષનીમાફક રંગબેરંગી પતંગો વડે છવાઇ જાય છે. ગુજરાતીઓ આ દિવસે તલ સાંકળી (તલ અને ગોળ માંથી બનાવેલી વાનગી) અને ‘ચિકી’ (એક મિઠાઇ) ખુબ ખાય અને ખવડાવે છે.

🎉ગુજરાત રાજ્ય તેની સાંસ્કૃતિક વિવિધતા અને તહેવારો માટે જાણીતું છે. આમાં ઉતરાયણ એ બધા લોકો માટે મહત્વનાં તહેવારોમાંનો એક છે. આ એક હળીમળીને સંયુક્ત રીતે આનંદ માણવાનો તહેવાર છે. લોકો આખો દિવસ પોતાની પતંગ ઉડાડવાની કલાનું અન્ય ઉડતી પતંગોને કાપીને પ્રદર્શન કરે છે. રાત્રે પણ આ ક્રમ આનંદભેર ચાલતો રહે છે. શોખીનો રાત્રે કાળા અંધારા આકાશમાં સફેદ પતંગો અથવા પતંગ સાથે બાંધીને ‘ફાનસ'(કાગળનો દિવો) ઉડાડે છે જેને અમદાવાદમાં’ટુક્કલ’ તરિકે ઓળખવામાં આવે છે. ઉતરાયણનો બીજો દિવસ (૧૫ જાન્યુઆરી) ‘વાસી ઉત્તરાયણ’ તરીકે મનાવાય છે. આમ સતત બે દિવસ આ આનંદમય તહેવારની ઉજવણી ચાલે છે.

🎉ઇ.સ.૨૦૧૬નાં જાન્યુવારી મહિનામાં ખગોળીય દૃષ્ટીએ ઉત્તરાયણ ૧૪ જાન્યુવારીના બદલે ૧૫ જાન્યવારીના દિવસે છે

🎉મકરસંક્રાંતિ ની ક્ષેત્રીય વિવિધતા🎉

સંક્રાંતિ સમગ્ર દક્ષિણ પૂર્વ એશિયામાં થોડા સ્થાનિક ફેરફાર સાથે મનાવાય છે:

ઉતર ભારતમાં,

હિમાચલ પ્રદેશ – લોહડી અથવા લોહળી, (Lohri)

પંજાબ – લોહડી અથવા લોહળી, (Lohri)

પૂર્વ ભારતમાં,

બિહાર – સંક્રાંતિ

આસામ – ભોગાલી બિહુ, (Bhogali Bihu)

પશ્ચિમ બંગાળ – મકરસંક્રાંતિ

ઓરિસ્સા – મકરસંક્રાંતિ

પશ્ચિમ ભારતમાં

ગુજરાત અને રાજસ્થાન – ઉતરાયણ (ખીહર)

મહારાષ્ટ્ર – संक्रान्त, સંક્રાન્ત

દક્ષિણ ભારતમાં,

આંધ્ર પ્રદેશ – તેલુગુ, (సంక్రాంతి Telugu)

તામિલ નાડુ – પોંગલ, (Pongal)

કર્ણાટક – સંક્રાન્થી

સબરીમાલા મંદિરમાં મકર વલ્લાકુ (Makara Vilakku) ઉત્સવ.

ભારતનાં અન્ય ભાગોમાં મકરસંક્રાંતિ

નેપાળમાં,

થારૂ (Tharu) લોકો – માઘી

અન્ય લોકો- માઘ સંક્રાંતિ (Maghe Sankranti)કે માઘ સક્રાતિ (Maghe Sakrati)

થાઇલેન્ડ – સોંગ્ક્રાન (สงกรานต์ Songkran)

લાઓસ – પિ મા લાઓ (Pi Ma Lao)

મ્યાન્માર – થિંગયાન (Thingyan)

1. RAW

रिसर्च एंड एनालि‍सिस विंग(रॉ) की स्थापना 1968 में की गई थी. इसका मुख्यालय नई दिल्ली में है. रॉ विदेशी मामलों, अपराधियों, आतंकियों के बारे में पूरी जानकारी रखती है. इंटेलिजेंस ब्यूरो(आईबी) भी देश की सुरक्षा के लिए काम करती है. इन दोनों एजेंसियों ने मिलकर कई बड़े आतंकी हमलों को नाकाम किया है.
2. ISI

इंटर सर्विस इंटेलिजेंस (आईएसआई) पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी है. आईएसआई की स्थापना 1948 में की गई थी. अमेरिकी क्राइम रिपोर्ट के मुताबिक, आईएसआई को सबसे ताकतवर एजेंसी बताया गया था. हालांकि आईएसआई पर आए दिन आतंकवाद को बढ़ावा देने के आरोप लगते रहे हैं. भारत में हुए कई आतंकी हमलों में आईएसआई के एजेंट्स का हाथ बताया जा रहा है. इसका मुख्यालय इस्लामाबाद में है.
3. CIA

सेंट्रल इंटेलिजेंस एजेंसी (सीआईए) अमेरिका की बहुचर्चित खुफिया एजेंसी है. इसकी स्थापना 1947 में तत्कालीन राष्ट्रपति हैरी ए ट्रूमैन ने की थी. सीआईए चार हिस्सों में बंटी हुई है. इसका मुख्यालय वाशिंगटन के पास वर्जीनिया में स्थित है. सीआईए डायरेक्टर ऑफ नेशनल इंटेलिजेंस को रिपोर्ट करती है. 2013 में वाशिंगटन पोस्ट ने सीआईए को सबसे ज्यादा बजट वाली खुफिया एजेंसी बताया था. साइबर क्राइम, आतंकवाद रोकने समेत सीआईए देश की सुरक्षा के लिए काम करती है.
4. MI6

मिलि‍ट्री इंटेलिजेंस सेक्शन-6 (MI6) यूनाइटेड किंगडम की खुफिया एजेंसी है. सबसे पुरानी खुफिया एजेंसियों में से एक MI6 की स्थापना 1909 में की गई थी. MI6 ज्वाइंट इंटेलिजेंस, डिफेंस, सरकार के साथ जानकारी साझा करने जैसे काम करती है. देश की संस्थाओं पर नजर रखने का काम भी MI6 के जिम्मे है.
5. MSS

चीन की खुफिया एजेंसी मिनिस्ट्री ऑफ स्टेट सेफ्टी(MSS) को 1983 में बनाया गया था. इस एजेंसी के जिम्मे काउंटर इंटेलिजेंस ऑपरेशंस और विदेशी खुफिया ऑपरेशन्स को चलाना है.
6. BND

जर्मनी की खुफिया एजेंसी Bundesnachrichtendienst को 1956 में गठित किया गया था. बीएनडी को दुनिया की सबसे बेहतरीन खुफिया और आधुनिक तकनीकों से लैस एजेंसी माना जाता है. इसका मुख्यालय म्यूनिख के पास पुलाच में है.
7. ASIS

ऑस्ट्रेलियन सीक्रेट इंटेलिजेंस सर्विस (एएसआईएस) ऑस्ट्रेलिया की खुफिया एजेंसी है. इसकी स्थापना 13 मई 1952 को की गई थी. इसका मुख्यालय ऑस्ट्रेलिया के केनबरा में स्थित है. एएसआईएस की तुलना अमेरिका के सीआईए और यूके की खुफिया एजेंसी एमआई-6 से की जाती है.
8. FSB

फेडरल सिक्योरिटी सर्विस (एफएसबी) रूस की खुफिया एजेंसी है. इसकी स्थापना 12 अप्रैल 1995 को हुई थी. एफएसबी का मुख्यालय मॉस्को में है. खुफिया से जुड़े मामलों के अलावा एफएसबी बॉर्डर से जुड़े मामलों पर भी गहरी नजर रखती है.
9. MOSSAD

इजराइल की खुफिया एजेंसी MOSSAD को दुनिया की सबसे बेहतरीन खुफिया एजेंसियों में गिना जाता है. MOSSAD की स्थापना 1949 की गई थी. MOSSAD मुख्यत: आतंकी विरोधी घटनाओं को अंजाम देती है और सीक्रेट ऑपरेशंस चलाती है, जिसका उद्देश्य देश की रक्षा करना होता है.
10. DGSE

Directorate General for External Security (DGSE) फ्रांस की इंटेलिजेंस एजेंसी है. DGSE को 1982 में बनाया गया था, जिसका मकसद फ्रांस सरकार के लिए विदेशों से खुफिया जानकारी एकत्र करना था. DGSE का मुख्यालय पेरिस में है.

👉👉#बिटकॉइन_निवेश

👉बिटकॉइन में निवेश करने वालों ने बेशक इसे वैश्विक मुद्रा का नाम दिया है, लेकिन इसमें निवेश करना खतरे से खाली नहीं है।
👉बिटकॉइन को बेचकर असली करेंसी खरीदी जा सकती है तथा इससे कोई सामान भी खरीदा जा सकता है।
👉बिटकॉइन के विषय में सबसे बड़ी समस्या इसका ऑनलाइन होना हैं, क्योंकि सम्पूर्ण व्यवस्था ऑनलाइन होने के कारण इसकी सुरक्षा एक बहुत बड़ी समस्या बन जाती है। इसके चलते इसके हैक होने का खतरा बना रहता है।
👉सबसे बड़ी समस्या इसके नियंत्रण एवं प्रबंधन की है। भारत जैसे कई देशों ने अभी तक इसे मुद्रा के रूप में स्वीकृति प्रदान नहीं की है, ऐसे में इसका प्रबंधन एक बड़ी समस्या है।
👉आर्थिक जानकार भी बिटकॉइन से दूरी बनाए रखने की सलाह देते हुए कहते हैं कि इसकी तकनीकी जानकारी रखे बिना इसमें में निवेश करने के भारी दुष्परिणाम हो सकते हैं।

👉👉#पर्यावरणपरप्रभाव
बिटकॉइन से केवल आर्थिक जोखिम ही नहीं जुड़े हैं, बल्कि जानकार इसे पर्यावरण के लिये भी हानिकारक मानते हैं। बिटकॉइन माइनिंग में बहुत अधिक ऊर्जा की खपत होती है। प्रत्येक बिटकॉइन लेन-देन के लिये लगभग 237 किलोवाट बिजली की खपत होती है। इससे प्रतिघंटा 92 किलो कार्बन का उत्सर्जन होता है, जो बोइंग-747 विमान के बराबर है और पर्यावरण के लिये सीधा खतरा है। इसके अलावा इसमें लगने वाले ऊर्जा भार के चलते विश्व में बिजली की कमी भी हो सकती है। चीन और दक्षिण कोरिया ने तो बिटकॉइन माइनिंग करने वालों को बिजली सप्लाई काटने के नोटिस देने शुरू कर दिये हैं।

👉👉#बिटकॉइन_माइनिंग
आभासी दुनिया में बिटकॉइन बनाने की प्रक्रिया को बिटकॉइन माइनिंग कहते हैं। यह काम करने वालों को माइनर्स कहा जाता है, जो बिटकॉइन लेन-देन में सहायता करते हैं।

👉👉#प्रमुख_बिंदु
👉बिटकॉइन बेहद अस्थिर मुद्रा है और सोने की तरह इसके दामों में उतार-चढाव होता रहता है।
👉विगत एक वर्ष में बिटकॉइन की कीमतों में 21 गुना वृद्धि हुई है और इसकी कीमत 17 हज़ार डॉलर प्रति बिटकॉइन से अधिक हो गई है।
👉भारत में बिटकॉइन को न तो आधिकारिक अनुमति है और न ही इसके विनियमन का प्रारूप बना है। इसीलिये देश में इसका प्रसार बैंकरों के लिये चिंता का कारण बना हुआ है।
👉माना जाता है कि भारत में भी बहुत से लोगों ने बिटकॉइन में निवेश किया है, जिसमें बड़ी मात्रा में कालाधन खपाया गया है।
👉वर्तमान में देश में चार बिटकॉइन एक्सचेंज प्रभाव में हैं: ज़ेबपे (Zebpay), यूनोकॉइन (Unocoin), BTCX इंडिया तथा कॉइनसिक्योर (Coinsecure)।
👉इनमें बाकायदा केवाईसी के तहत खाता खोलना पड़ता है। इसके बाद अपने बैंक खाते से उसको जोड़कर भुगतान किया जाता है।
👉आभासी मुद्रा बिटकॉइन की संख्या सीमित है और इसकी कीमतें मांग और आपूर्ति के सिद्धांत पर तय होती हैं। वर्तमान में इसका कुल वैश्विक मूल्य 264 बिलियन डॉलर है।
👉बिटकॉइन की खरीदारी एक क्रिप्टो-करेंसी वालेट से दूसरे क्रिप्टो करेंसी वालेट में की जाती है। कंप्यूटर, टेबलेट, स्मार्टफोन या क्लाउड स्टोरेज में इसे रखा जा सकता है।
👉इसके लेन-देन में किसी का नाम सार्वजनिक नहीं होता, केवल वालेट आईडी की जानकारी ही हो पाती है।
👉शेयरों की तरह बिटकॉइन की ट्रेडिंग के लिये भी एक्सचेंज होते हैं और न्यूनतम 1000 रुपए से ट्रेडिंग शुरू की जा सकती है। भारत में 10 से अधिक एक्सचेंजों में इसकी ट्रेडिंग होती है।

#महाभियोग

अनुच्छेद 124(4)

हाईकोर्ट या सुप्रीम कोर्ट के किसी जज को महाभियोग के जरिए ही पद से हटाया जा सकता है। महाभियोग यानी ”इमपीचमेंट’ शब्द का लैटिन भाषा में अर्थ है पकड़ा जाना। इस शब्द की जड़ें भले ही लैटिन भाषा से निकलती हों, परंतु इस वैधानिक प्रक्रिया की शुरूआत #ब्रिटेन से मानी जाती है। यहां 14वीं सदी के उत्तरार्ध में महाभियोग का प्रावधान किया गया था!

#पांच_कदम

संविधान के अनुच्छेद 124(4) में सुप्रीम कोर्ट या किसी हाईकोर्ट के जज को हटाए जाने का प्रावधान है। महाभियोग के जरिए हटाए जाने की प्रक्रिया का निर्धारण जज इन्क्वायरी एक्ट 1968 द्वारा किया जाता है।

1•किसी जज को हटाए जाने के लिए जरूरी महाभियोग की शुरुआत लोकसभा के 100 सदस्यों या राज्यसभा के 50 सदस्यों के सहमति वाले प्रस्ताव से की जा सकती है। ये सदस्य संबंधित सदन के पीठासीन अधिकारी को जज के खिलाफ महाभियोग चलाने कीअपनी मांग का नोटिस दे सकते हैं।


2• प्रस्ताव पारित होने के बाद संबंधित सदन के पीठासीन अधिकारी द्वारा तीन जजों की एक समिति का गठन किया जाता है। इस समिति में सुप्रीम कोर्ट के एक मौजूदा न्यायाधीश, हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश या न्यायाधीश और एक कानूनविद को शामिल कियाजाता है। यह तीन सदस्यीय समिति संबंधित जज पर लगे आरोपों की जांच करती है¡

3• जांच पूरी करने के बाद यह समिति अपनी रिपोर्ट पीठासीन अधिकारी को सौंपती है। आरोपी जज जिनके खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव लाया गया है, को भी अपने बचाव का मौका दिया जाता है¡


4•पीठासीन अधिकारी के समक्ष प्रस्तुत की गई जांच रिपोर्ट में अगरआरोपी जज पर लगाए गए दोष सिद्ध हो रहे हैं तो पीठासीन अधिकारीमामले में बहस के प्रस्ताव को मंजूरी देते हुए सदन में वोट कराते हैं¡


5•किसी जज को तभी महाभियोग द्वारा हटाया जा सकता है जब संसदके दोनों सदनों में #दो_तिहाई मतों (उपस्थिति और वोटिंग) से यह प्रस्ताव पारित हो जाए। हालांकि अभी तक देश की न्यायपालिका के इतिहास में ऐसा मौका नहीं आया है।

आप सभी को #मकर #संक्रांति की ढेर सारी शुभकामनाये.
यह त्यौहार आपके जीवन में ज्ञान और खुशी लाए
पूरे साल आपका जीवन प्रकाशमय रहे। 😊

मकर संक्रांति आखिर है क्या ??

इस द‍िन सूर्य उत्तरायण होता है यानी कि #पृथ्‍वी का उत्तरी गोलार्द्ध सूर्य की ओर मुड़ जाता है. परंपराओं के मुताबिक इस द‍िन सूर्य मकर राश‍ि में प्रवेश करता है.

मकर संक्रान्ति हिन्दुओं का प्रमुख पर्व है। पौष मास में जब सूर्य मकर राशि पर आता है तभी इस पर्व को मनाया जाता है। यह त्योहार जनवरी माह के चौदहवें या पन्द्रहवें दिन ही पड़ता है क्योंकि इसी दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ मकर राशि में प्रवेश करता है।

मकर संक्रान्ति के दिन से ही सूर्य की उत्तरायण गति (यानी पृथ्वी की) भी प्रारम्भ होती है। इसलिये इस पर्व को कहीं-कहीं #उत्तरायणी भी कहते हैं। तमिलनाडु में इसे #पोंगल नामक उत्सव के रूप में मनाते हैं जबकि कर्नाटक, केरल तथा आंध्र प्रदेश में इसे केवल संक्रांति ही कहते हैं।

मकर संक्रान्ति के दिन किसान अपनी अच्छी फसल के लिये भगवान को धन्यवाद देकर अपनी अनुकम्पा को सदैव लोगों पर बनाये रखने का आशीर्वाद माँगते हैं। इसलिए मकर संक्रान्ति के त्यौहार को फसलों एवं किसानों के त्यौहार के नाम से भी जाना जाता है।

भारत देश उत्तरी गोलार्ध में स्थित है। मकर संक्रान्ति से पहले सूर्य की सीधी किरणे दक्षिणी गोलार्ध में होती है अर्थात् भारत से अपेक्षाकृत अधिक दूर | इसी कारण यहाँ पर रातें बड़ी एवं दिन छोटे होते हैं तथा सर्दी का मौसम होता है। किन्तु मकर संक्रान्ति से सूर्य उत्तरी गोलार्द्ध की ओर आना शुरू हो जाता है।

अतएव इस दिन से रातें छोटी एवं दिन बड़े होने लगते हैं तथा गरमी का मौसम शुरू हो जाता है। दिन बड़ा होने से प्रकाश अधिक होगा तथा रात्रि छोटी होने से अन्धकार कम होगा। अत: मकर संक्रान्ति पर सूर्य की राशि में हुए परिवर्तन को अंधकार से प्रकाश की ओर अग्रसर होना माना जाता है।

प्रकाश अधिक होने से प्राणियों की चेतनता एवं कार्य शक्ति में वृद्धि होगी। ऐसा जानकर सम्पूर्ण भारतवर्ष में लोगों द्वारा विविध रूपों में सूर्यदेव की उपासना, आराधना एवं पूजन कर, उनके प्रति अपनी कृतज्ञता प्रकट की जाती है।

सामान्यत: भारतीय पंचांग पद्धति की समस्त तिथियाँ चन्द्रमा की गति को आधार मानकर निर्धारित की जाती हैं, किन्तु मकर संक्रान्ति को सूर्य की गति से निर्धारित किया जाता है। इसी कारण यह पर्व प्रतिवर्ष 14 या 15 जनवरी को ही पड़ता है।

माना जाता है कि आज से 1000 साल पहले मकर संक्रांति 31 दिसंबर को मनाई जाती थी. पिछले एक हज़ार साल में इसके दो हफ्ते आगे खिसक जाने की वजह से 14 जनवरी को मनाई जाने लगी. अब सूर्य की चाल के आधार पर यह अनुमान लगाया जा रहा है कि 5000 साल बाद मकर संक्रांति फ़रवरी महीने के अंत में मनाई जाएगी.

#विभिन्न नाम #भारत में

ताइ पोंगल, उझवर तिरुनल : तमिलनाडु
उत्तरायण : गुजरात, उत्तराखण्ड
माघी : हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, पंजाब
भोगाली बिहु : असम
शिशुर सेंक्रात : कश्मीर घाटी
खिचड़ी : उत्तर प्रदेश और पश्चिमी बिहार
पौष संक्रान्ति : पश्चिम बंगाल
मकर संक्रमण : कर्नाटक

विभिन्न नाम भारत के बाहर

बांग्लादेश : Shakrain/ पौष संक्रान्ति
नेपाल : माघे सङ्क्रान्ति या ‘माघी सङ्क्रान्ति’ ‘खिचड़ी सङ्क्रान्ति’
थाईलैण्ड : सोङ्गकरन
लाओस : पि मा लाओ
म्यांमार : थिङ्यान
कम्बोडिया : मोहा संगक्रान
श्री लंका : पोंगल, उझवर तिरुनल

🏵🏵केंद्र की महत्वपूर्ण योजनाएं 🏵🏵

☛ योजना. :- हृदय योजना
☛ प्रारंभ तिथि :- 21 जनवरी 2015
☛ उद्देश्य :- भारत के प्राचीन 12 नगरों के सर्वाेन्मुखी विकास एवं ऐतिहासिक धरोहर के संरक्षण के लिए

☛ योजना :- बेटी बचाओं, बेटी पढ़ाओं
☛ प्रारंभ तिथि :- 22 जनवरी 2015
☛ उद्देश्य :- लड़कों की अपेक्षा लड़कियों की संख्या कम होने के कारण बढ़ते लिंगानुपात को कम करने पानीपत (हरियाणा) के लिए

☛ योजना :- सुकन्या समृद्धि योजना
☛ प्रारंभ तिथि :- 22 जनवरी 2015
☛ उद्देश्य :- माता-पिता, लड़की के नाम से 10 वर्ष से कम आयु में बैंक खाता खोल सकेंगे।

☛ योजना :- मिशन इन्द्रधनुष
☛ प्रारंभ तिथि :- दिसम्बर 2014
☛ उद्देश्य :- सात टीका निवारणीय बीमारियों डिफ्थीरिया, काली खाॅसी, टिटनेस, पोलियो, टी. बी. खसरा और हेपेटाइटिस ‘बी’ का 2020 तक ऐसे सभी बच्चों का टीकाकरण करना है, जिन्हें आंशिक रूप से टीका लगा है या इससे वंचित है।

☛ योजना :- मृद्रा स्वास्थ्य कार्ड योजना
☛ प्रारंभ तिथि :- 19 फरवरी 2015 (सूरतगढ़, श्रीगंगानगर)
☛ उद्देश्य :- पोषक तत्वों और उर्वरकों के उचित उपयोग से उत्पादकता में सुधार लाकर किसानों की मदद करना।

☛ योजना :- प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना
☛ प्रारंभ तिथि :- 2015
☛ उद्देश्य :- युवाओं को प्रशिक्षण प्रदान करके उन्हें कुशल श्रमिक बनाया जा सकेगा।

☛ योजना :- प्रधानमंत्री मुद्रा योजना
☛ प्रारंभ तिथि :- 8 अप्रैल 2015 (नई दिल्ली)
☛ उद्देश्य :- असंगठित क्षेत्र के छोटे कारोबारियों के लिए वित्त एवं पुनिर्वित्त की सुविधा उपलब्ध कराने हेतु।

☛ योजना :- अटल पेंशन योजना
☛ प्रारंभ तिथि :- 9 मई 2015
☛ उद्देश्य :- पेंशन के प्रावधान वाली योजना (18-40 वर्ष आयु वर्ग के लिए)

☛ योजना :- प्रधानमंत्री जीवन ज्योति योजना
☛ प्रारंभ तिथि :- 9 मई 2015
☛ उद्देश्य :- जीवन बीमा की सुविधा उपलब्ध कराने के लिए (2 लाख रू का बीमा, 18-50 वर्ष आयु वर्ग) के लिए

☛ योजना :- प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना
☛ प्रारंभ तिथि :- 9 मई 2015
☛ उद्देश्य :- दुर्घटना की स्थिति में मृत्यु या अपंगता के मामलों में क्षतिपूर्ति हेतु बीमा योजना (मृत्यु या स्थायी अपंगता 2 लाख रू, आंशिक अपंगता 1 लाख रू, 18-70 वर्ष की आयु वर्ग)

☛ योजना :- उस्ताद योजना
☛ प्रारंभ तिथि :- 14 मई 2015 (वाराणसी से)
☛ उद्देश्य :- कौशल उन्नयन एवं प्रशिक्षण द्वारा पारस्परिक कला एवं हस्तशिल्प का विकास करना है।

☛ योजना :- अमृत (AMRUT- Atal Mission for Rejuvenation and Urban Transformation) योजना
☛ प्रारंभ तिथि …

નોંધપાત્ર

👉 1 થી 100 સુધી માં અવિભાજ્ય સંખ્યાઓ કેટલી – 25
👉 1 થી 50 સુધી માં અવિભાજ્ય સંખ્યાઓ કેટલી – 15
👉 1 થી 25 સુધી માં અવિભાજ્ય સંખ્યાઓ કેટલી – 9
👉 સૌથી નાની એકી અવિભાજ્ય સંખ્યા – 3
👉 સૌથી નાની બેકી અવિભાજ્ય સંખ્યા – 2

🎭🎭સાઉદી અરેબિયા – ધી કન્ટ્રી વિથ ન્યૂ માઈન્ડસેટ🌍🌍

👉રોબોટ સોફિયા ને નાગરિકતા આપી

👉 વેટ ટેક્સ ની શરૂઆત કરી (યુએઇ પણ સાથે)

👉 મહિલાઓ ને કાર -બાઇક ચલાવવા છૂટછાટ મળી

👉 35 વર્ષ બાદ થિયેટર્સ પર પ્રતિબંધ હટ્યો

👉 ચારથી વધુ સમૂહની 45 વર્ષની મહિલાઓ `મેહરમ’ (પુરુષ વિના) અહી હજ યાત્રા કરી શકશે.

🚀🚀બોનસ પોઈન્ટ 💊💊

👉 રાજધાની – રિયાધ

👉ચલણ- રિયાલ

👉રાજા- સલમાન બિન અબ્દુલાઝિઝ( ટાઈમ પર્સન ઓફ ધ યર 2017)

⭐Imperfect Learner 👿🎯✍

करेंट अफेयर्स 08 जनवरी से 13 जनवरी 2018 तक

• पुस्तक ‘आखिरी कलाम’ के रचियता जिनका हाल ही में निधन हो गया – दूधनाथ सिंह

• रेल यातायात की प्रवाह और अधिकत्तम माल ढुलाई संचालन योजना में मदद के लिए भारतीय रेल द्वारा लॉन्च किया गया मोबाइल एप्प – स्फूर्ति

• गैलप इंटरनेशनल द्वारा विश्व के सर्वाधिक लोकप्रिय नेता शीर्षक हेतु कराये गये सर्वेक्षण में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को प्राप्त हुआ स्थान – तीसरा

• वह सरकारी योजना जिसके तहत 500 सड़कों के निर्माण में भ्रष्टाचार पाया गया – प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना

• हाल ही में भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा भारत की इतनी टकसालों में सिक्कों की छपाई रोक दी गयी है – सभी चारों

• प्रत्येक वर्ष मनाया जाने वाला राष्ट्रीय युवा दिवस इनके स्मरण में मनाया जाता है – स्वामी विवेकानंद

• हाल ही में इन्हें हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव के रूप में नियुक्त किया गया है – मनीषा नंदा

• इन्हें हाल ही में संयुक्त राष्ट्र बाल कोष के कार्यकारी निदेशक के रूप में नियुक्त किया गया – हेनरिटा एच. फोर

• वह भारतीय कंपनी जिसने बिटकॉइन की तर्ज पर क्रिप्टोकरंसी लॉन्च किये जाने की घोषणा की – रिलायंस जियो

• भारत से निर्भरता समाप्त करते हुए नेपाल ने इस देश से इन्टरनेट कनेक्शन लेने के लिए योजना पर काम करना शुरु कर दिया है – चीन

• बीसीसीआई ने डोप टेस्ट में नाकाम रहने के कारण युसूफ पठान को जितने महीने के लिए निलंबित किया है- 5 महीने

• हाल ही में अमेरिका ने जिस देश को एंटी-बैलिस्टिक मिसाइलें बेचे जाने की मंजूरी प्रदान की है- जापान

• जिस देश ने अप्रैल 2018 में दुनिया के पहले ‘बेबी ओलंपिक्स’ आयोजित करने की योजना का घोषणा किया है जिसमें दो से चार साल तक के बच्चे हिस्सा ले सकेंगे- बहरीन

• केंद्र सरकार ने जिस वरिष्ठ अंतरिक्ष वैज्ञानिक को 10 जनवरी 2018 को भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) का अध्यक्ष नियुक्त किया हैं- के. सिवन

• केंद्रीय मंत्रिमंडल ने विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में सहयोग हेतु भारत और जिस देश के बीच सहमति ज्ञापन को मंजूरी दी- कनाडा

• जिस देश ने 63 साल पुराने कानून में बदलाव करते हुए पहली बार महिलाओं के शराब खरीदने, शराब बनाने या बेचने वाले प्रतिष्ठानों में काम करने पर लगा प्रतिबंध हटा दिया है- श्रीलंका

• अमेरिका ने जापान को जितने इंटरसेप्टर (अवरोधक) मिसाइलों और उपकरणों की ब्रिकी को प्राथमिक मंज़ूरी दे दी है-चार

• सत्यम घोटाले में ऑडिट फर्म प्राइसवॉटरहाउस पर जितने साल का प्रतिबंध लगा- 2 साल

• हिमाचल प्रदेश की आंचल ठाकुर ने तुर्की में हुई एक अंतरराष्ट्रीय स्तर की स्कीइंग प्रतियोगिता में जो पदक जीता- कांस्य पदक

• जिस संस्था ने भारत की वृद्धि दर वर्ष 2018 में 7.3 और अगले दो साल के दौरान 7.5 प्रतिशत रहने का अनुमान लगाया है- विश्व बैंक

• हाल ही में प्रसिद्द संगीतकार एआर रहमान को जिस राज्य का ब्रांड एम्बेस्डर नियुक्त किया गया- सिक्किम

• जिस राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अपने राज्य के आधिकारिक प्रतीक चिह्न का अनावरण किया है- बंगाल

• वह देश जो पुरुषों और महिलाओं हेतु समान वेतन वैध बनाने वाला पहला देश बना है- आइसलैंड

• हाल ही में जिस राज्य की सरकार ने बस, मेट्रो में यात्रा करने के लिए कॉमन कार्ड शुरू किया है- दिल्ली

• भारत के इस प्रसिद्ध ऐतिहासिक शैव आचार्य के बारे में मध्य प्रदेश के स्कूलों में पढ़ाया जाना अनिवार्य कर दिया गया है – आदि शंकराचार्य

• इस प्रकार के तिरंगे पर सरकार ने उपयोग किये जाने हेतु…

भारत के शोध संस्थान:-
☆☆☆☆☆☆☆☆☆☆☆☆☆☆
👉भारतीय सर्वेक्षण संस्थान – देहरादून
👉भारतीय मौसम विज्ञान विभाग – नई दिल्ली
👉भारतीय मौसम वैधशाला – पुणे
👉केन्द्रीय भवन निर्माण अनुसंधान संस्थान – रूड़की (उत्तराखण्ड)
👉केन्द्रीय सड़क अनुसंधान संस्थान – नई दिल्ली
👉केन्द्रीय ईंधन अनुसंधान संस्थान – जादूगोड़ा (झारखण्ड)
👉केन्द्रीय खाद्य प्रौद्योगिकी अनुसंधान संस्थान – मैसूर
👉केन्द्रीय औषधि अनुसंधान- लखनऊ
👉केन्द्रीय चमड़ा अनुसंधान संस्थान – चेन्नई
👉राष्ट्रीय वानस्पतिक अनुसंधान संस्थान – लखनऊ
👉Bhabha Atomic Research Centre – ट्राम्बे (महाराष्ट्र.)
👉उपग्रह नियंत्रण केन्द्र – हासन (कर्नाटक)
👉राष्ट्रीय धातु विज्ञान प्रयोगशाला – जमशेदपुर
👉केन्द्रीय खनन अनुसंधान केन्द्र – धनबाद (झारखण्ड)
👉केन्द्रीय पर्यावरण इन्जीनियरिंग अनुसंधान संस्थान – नागपुर
👉राष्ट्रीय समुद्र विज्ञान संस्थान – गोवा
👉केन्द्रीय नमक समुद्रीय रसायन अनुसंधान संस्थान – भावनगर
👉भारतीय पेट्रोलियम अनुसंधान संस्थान – देहरादून
👉रमन अनुसंधान केन्द्र – बैंगलोर
👉Indian Oil रिसर्च इन्स्टीट्यूट – मुम्बई
👉Indian Telephone Industries Ltd. – बंगलोर
👉नेशनल डेयरी रिसर्च इन्सटीट्यूट – करनाल (हरियाणा)
👉National Sugar Research Institute – कानपुर
👉नेशनल ऐरोनोटिकल लेबोरेटरी – बैंगलोर
👉नेशनल जियो फिजीकल रिसर्च इन्सटीट्यूट – हैदराबाद
👉National Institute of Oceanology – पणजी
👉iIndian Forest Research Institute – देहरादून
👉 Indian AgricultureResearch Institute – नई दिल्ली
👉 Indian Institute of Sugar Technology – कानपुर
👉 Indian Institute of Science – बैंगलोर
👉 इण्डियन लाख रिसर्च इन्सटीट्यूट – राँची
👉सेन्ट्रल मेरीन रिसर्च स्टेशन – चैन्नई
Central Rice Research Institute – कटक (उड़ीसा)
👉Central Potato Research Institute – शिमला
👉Central Tobacco Research Institute- राजमुन्दरी (आंध्र प्रदेश)
👉Central Salt Research Institute – भावनगर
👉सेन्ट्रल ऐरिडजोन रिसर्च इन्सटीट्यूट – जोधपुर
👉Central Institute of Fisheries Technology – एर्नाकुलम
👉सेन्ट्रल जूट टेक्नोलाजी रिसर्च इन्स. – कोलकाता
👉बीरवल साहनी इन्सटीट्यूट आफ पेलियो बाटनी – लखनऊ
👉Bose Research Institute – कोलकाता
👉प्लाज्मा अनुसंधान संस्थान – गांधी नगर (गुजरात)
👉Saha Institute of Nuclear Physics – कोलकाता (पं. बंगाल)
👉भारतीय तकनीकी अनुसंधान संस्थान – लखनऊ
👉भारतीय खगोल संस्थान – बैंगलौर
👉भारतीय राष्ट्रीय समुद्र सूचना सेवा केन्द्र – हैदराबाद
👉राष्ट्रीय समुद्र प्रौद्योगिकी संस्थान – चैन्नई
👉Antarctica Study Centre – गोवा
👉Central Electrochemical Research Institute – कुराइकुडी (तमि.)
👉Centre of Cellular and Molecular Biology – हैदराबाद
👉राष्ट्रीय गन्ना अनुसंधान संस्थान – लखनऊ
👉केंद्रीय नारियल अनुसंधान केद्र – कयामकुलम (केरल)
👉अखिल भारतीय स्वास्थ्य विज्ञान व जन स्वास्थ्य संस्थान – कोलकाता
👉 केंद्रीय कुष्ठ अनुसंधान संगठन – चेन्नई
👉राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य संस्थान – बंगलौर

कॉलेजियम व्यवस्था क्या है?

1. उच्च न्यायालयों और सर्वोच्च न्यायालयों में जजों की नियुक्ति की प्रक्रिया के सम्बन्ध में संविधान में कोई व्यवस्था नहीं दी गई है.

2. अतः यह कार्य शुरू में सरकार द्वारा ही अपने विवेक से किया जाया करता था.

3. परन्तु 1990 के दशक में सर्वोच्च न्यायालय ने इस मामले में हस्तक्षेप करना शुरू किया और एक के बाद एक कानूनी व्यवस्थाएँ दीं. इन व्यवस्थाओं के आलोक में धीरे-धीरे नियुक्ति की एक नई व्यवस्था उभर के सामने आई. इसके अंतर्गत जजों की नियुक्ति के लिए कॉलेजियम की अवधारणा सामने आई.

4. ये कॉलेजियम राज्य और केंद्र दोनों के स्तर पर होते हैं. इनमें यदि उच्च न्यायालय की बात हो तो वहाँ के मुख्य न्यायाधीश और 2-3 वरिष्ठतम न्यायाधीश collegium बनाते हैं और यदि सर्वोच्च न्यायालय की बात हो तो भारत के मुख्य न्यायाधीश तथा सर्वोच्च न्यायालाय के वरिष्ठतम न्यायाधीश सम्बंधित कॉलेजियम के सदस्य होते हैं.

5. ये कॉलेजियम ही उच्च न्यायालय और सर्वोच्च न्यायालय के जजों की नियुक्ति के लिए नाम चुनती है और फिर अपनी अनुशंसा सरकार को भेजती है.

6. सरकार इन नामों से ही न्यायाधीश की नियुक्ति के लिए कार्रवाई करती है.

दोस्तो महात्मा गांधी से ऐसे प्रश्न-उत्तर आपको बता रहा हूं जो बहुत ही Important हैं..
1. गाधी जी की मृत्यु पर उन्हे कंधा देने वाले मुस्लिम का नाम- अबुल कलाम आजाद जो भारत के पहले शिक्षा मंत्री थे।
2. गांधी जी को महात्मा और बापू के नाम से भी जाना जाता है, महात्मा शब्द तो संस्कृत भाषा का है ओर बापू शब्द गुजराती भाषा का है।
3. गांधी को राष्ट्रपिता की उपाधि रविन्द्रनाथ टैगोर ने दी तथा राष्ट्रपिता सुभाषचन्द्र बोस ने कहा।
4. शहीद दिवस, 30 जनवरी को गांधी की पुण्यतिथि पर ही मनाया जाता है।
5. गांधी दक्षिण अफ्रीका से कब वापस आये- 1915 में।
6.इनका जम्नदिन 2 अक्टुबर को गाधी जयंती के रूप में मनाया जाता है, परन्तु पूरे विश्व मे किस नाम से मनाया जाता है- अंतराष्ट्रीय अंहिसा दिवस के नाम से।
7. ये किस जाति से थे- पंसारी
8. इनका भारत छोड़ो आंदोलन कब हुआ- 1942
9. जब इनका विवाह 1883 में हुआ तो इनकी ओर इनकी पत्नि कसतूरबा की आयु क्या थी- गांधी 13 वर्ष तथा कसतूरबा 14 वर्ष की ओर पहली सन्तान 1885 मे हुई जो कुछ दिन ही जी पाई ओर उस समय गांधी 15 साल के थे।
10. गाधी के चार बेटे थे,- 1. हरिलाल, 2.मणिलाल, 3.रामदास ओर 4.देवदास।
11. 19वें जन्मदिन से एक महीने पहले ही 4 सितम्बर 1888 को गांधी, यूनिवर्सिटी कालेज – लंदन, में कानून की पढ़ाई करने ओर बैरिस्टर बनने इंग्लैण्ड चले गये।
12. इनका असहयोग आंदोलन, 1920 से शुरू हुआ, जो शुरू में अंहिसात्मक मतलब बिना मार-काट का था, ओर फरवरी 1922 को चोरी-चोरा (उत्तर-प्रदेश के गोरखपुर जिले में) स्थान पर एक बेकाबू भीड़ ने ब्रिटिश पुलिस चौकी को आग लगा दी जिसमे 22 पुलिसकर्मी मरे ओर तभी से ये आंदोलन हिंसात्मक हो गया मतलब मार-काट का ओर तभी गांधी को ये 1922 मे समाप्त करना पड़ा।
13. गांधी दक्षिण अफ्रीका सबसे पहले क्यों गये- 1883 में एक गुजराती Bussinessman दादा अब्दुल्लाह का केस लड़ने गये थे।
14. इनका सविनय अविज्ञा आंदोलन कब शुरू हुआ- 1930 में।
15. डांडी यात्रा में गांधी के साथ कितने चेले या अनुयायी थे- 78
16. इन्होने डांडी यात्रा कहां से कहां तक और कब शुरू की- 12 मार्च 1930 को साबरमति आश्रम से डांडी नामक स्थान पर।
17. डांडी यात्रा में ये कितने किलोमीटर पैदल चले- 385-390 किमी.
18. गाधी ने कितने दिनो में डाडी यात्रा की- 24 दिन में।
19. गांधी ने डाडी नामक स्थान पर पहुंचकर एक मुट्ठी नमक बनाया था जो ब्रिटिश सरकार की नजरो में अपराध था।
20. वह नेता जिन्हे असहयोग आंदोलन में सबसे पहले गिरफ्तार किया गया- मौहम्मद अलि।
21. किस किसकी सहायता से गांधी इरविन समझोता हो पाया- तेजबहादुर सपड़ू ओर एम. आर. जफर।
22. गांधी किन दो लोगो से हमेशा परेशान रहते थे- मौं. अलि जिन्ना और अपने बेटे हरिलाल से।
23. गांधी जब इंग्लैण्ड गये तो उस जहाज का नाम जिससे ये गये- एम. एस. राजपूताना।
24. भारत छोड़ो आंदोलन के समय गांधी सहित अन्य नेताओ का गिरफ्तार करने की योजना को ब्रिटिश सरकार ने क्या नाम दिया था- Operation Zero Hours
25. गांधी जी की आत्मकथा, My Experience With Truth किस भाषा में लिखी गई है- गुजराती भाषा में।
26. गोलमेज सम्मेलनो की शुरूआत 12 Nov 1930 से हुई ओर तीन गोलमेज सम्मेलन हुए है।
27. द्वितीय गोलमेज सम्मेलन कब और किसके बीच हुआ- 5 मार्च 1931 को गांधी ओर ईरविन के बीच हुआ तथा इसे दिल्ली समझोता भी कहते हैं।
28. द्वितीय गोलमेज सम्मेलन कितने दिनो तक चला- 84 दिन।
29. तृतीय गोलमेज सम्मेलन कितने दिनो तक चला- 37 दिन।
30. भीमराव अम्बेडकर ही भारत के एक ऐसे व्यक्ति थे जिन्होने तीनो गोलमेज सम्मेलन में भाग लिया।
31. द्वीतीय गोलमेज सम्मेलन में ही जब गांधी ने भाग लिया तो …

दुनिया की कुछ रोचक जानकारी
🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷

1. हर एक घंटे में ब्रह्माण्ड सभी दिशाओ में अरबो मील बढ़ता है.

2. अफ्रीकन हाथी का गर्भकाल 22 महीनो का होता है.

3. दुनिया के एक तिहाई (25%) पेड़ 2010 से तेज़ी से विलुप्त हो रहे है।

37 लाख लोगों ने 1 घरेलू टोटके से दोबारा उगाए सिर पर घने बाल

4. एक कुत्ते के सूंघने की क्षमता इंसानो से 1000 गुना ज्यादा होती है.

5. सूरज की किरणों को सूरज से धरती तक आने में 8 मिनट 17 सेकंड लगते है.

6. दुनिया का सबसे बड़ा मरुस्थल सहारा है, जो 3,500,000 वर्गमील का है.

7. जिंदगीभर में एक इंसान की त्वचा के 40 lbs शेड होते है.

8. न्यूट्रॉन तारा काफी घना होता है इतना घना की चाय के चम्मच का वजन भी धरती के सभी लोगो के वजन जितना होता है.

9. महान समुद्रफेनि की आँखे 15 इंच से देखने पर भी धरती की सबसे बड़ी आँखे दिखाई देती है.

10. धरती पर एक इंसान की त्वचा के गुणसूत्र कभी-कभी धरती पर रह रहे दूसरे इंसान के गुणसूत्रों से भी मेल खा सकते है.

11. पुरुष एक सेकंड में 1 हज़ार स्पर्म कोशिकाओ का निर्माण करता है – और एक दिन में 86 लाख स्पर्म कोशिकाओ का निर्माण करता है.

12. काले अफ्रीकन साँप द्वारा काटने पर मृत्यु दर 95% होती है.

13. सबसे बड़ी गैलेक्सी में लाखो, लाखो तारो का समावेश होता है.

14. ब्रह्माण्ड में तक़रीबन 100 अरब गैलेक्सी का समावेश है.

15. रबर का एक अणु 65000 एकल परमाणु से बनाया जाता है.

16. क्वेजार तारे के निकलने की ऊर्जा 100 विशाल गैलेक्सी सभी ज्यादा होती है.

17. यदि सूरज बीच बॉल के आकार जितना हो तो बृहस्पति गोल्फ बॉल के आकार जितना होगा और पृथ्वी एक मधुमक्खी जितनी छोटी होगी.

18. टीवी से निकलने वाली विकिरण किरणे माह विस्फोट के समय निकलने वाली किरणों समान होती है.

19. भले ही आप प्रकाश की गति से यात्रा करो तो भी आपको सबसे नजदीकी गैलेक्सी, एंड्रोमेडा तक पहोचने में 2 लाख साल लग जायेंगे.

20. 90% लोग जो तूफान से मरते है वे उसमे डूबकर मरते है.

21. अंटार्कटिका प्लूमेट (Plummet) का तापमान -35 डिग्री सेल्सियस से भी कम होता है.

22. हर साल धरती पर तक़रीबन 1 लाख भूकंप आते है.

23. 2000 किलोमीटर लंबा द ग्रेट बैरियर रीफ धरती पर रहने का सबसे बड़ा स्थान है.

24. न्यूट्रॉन तारे की थोड़ी सी मात्रा भी 100 लाख टन के बराबर है.

25. उल्कापिंड के पड़ने से इंसानो के मरने का खतरा हर 9300 सालो में एक बार होता है.

26. दुनिया की शुष्क बसी हुई जगह आसवन, इजिप्त है जहा एवरेज वार्षिक वर्षा 02 इंच होती है.

27. अल्फ्रेड नोबेल ने 1866 में डायनामाइट की खोज की थी.

28. इंसान के शरीर की एक रक्त कोशिका को शरीर का पूरा चक्कर लगाने में तक़रीबन 60 सेकण्ड का समय लगता है.

29. विल्जेलम रोन्टजेन ने पहला नोबेल पुरस्कार 1895 में फिजिक्स में क्ष-किरणों (X-Ray) की खोज के लिये जीता था.

30. 2000 में से हर एक बेबी का जन्म दाँतो के साथ ही होता है.

31. दुनिया का सबसे लंबा पेड़ ऑस्ट्रेलियन यूकेलिप्टस है- 1872 में यह तक़रीबन 435 फ़ीट ऊँचा था.

32. 1967 में क्रिस्चियन बफनार्ड ने पहला हार्ट ट्रांसप्लांट किया था – उस समय वह पेशेंट 18 दिनों तक ज़िंदा रह पाया था.

33. छोटी नाक वाले चूहे का गर्भकाल 12 दिनों का होता है

34. साधारणतः प्रकाश की गति 186,000 मील प्रति सेकण्ड होती है. जिसे हम 299,792,458 MS (मीटर पर सेकण्ड) भी कह सकते है.

35. दुनिया में किसी भी समंदर का सबसे गहरा भाग मारियाना ट्रेंच है जो तक़रीबन 35,797 फ़ीट गहरा है.

36. एक भूरी व्हेल आर्कटिक से मेक्सिको तक 12500 मील की यात्रा करती है और हर साल वापिस भी आती है.

37. यूनाइटेड नेशन के प्रक्षेपण के अनुसार 12 अक्टूबर 1999 को “द डे ऑफ़ सिक्स बिलियन” का दर्जा दिया गया.

38. जन्म लेने वाले सभी इंसानों में से केवल 10% लोग ही सही समय तक जीवीत रह पाते है.

39. एक विशिष्ट तूफान में 8000 मेगाटन बम निर्माण करने की क्षमता होती है.

40. धरती के गुरुत्वाकर्षण से बचने के लिये एक रॉकेट को एक सेकण्ड में 7 मील की यात्रा करने की जरुरत है.

41. हमारे सबसे पुराने 1930 रेडियो कार्यक्रम ने पहले ही 100,000 स्टार्स की यात्रा कर ली है.

42. क्वेजार इस ब्रह्माण्ड की सबसे दूर का पिंड है.

43. सैटर्न व्ही राकेट इंसान को चाँद तक ले जा सकता है, इसकी क्षमता 50 विशाल 747 जेट से भी ज्यादा होती है.

44. कोयाला (भालू जैसा जानवर) दिन में तक़रीबन 22 घंटे सोता है, वह स्लॉथ (दक्षिणी अमेरिकी जानवर) की तुलना में दो घंटे ज्यादा सोता है.

45. दुनिया का सबसे बड़े डायनासॉर खोज की गयी थी, जिसमे सिस्मोसौरुस को सबसे विशाल डायनासॉर माना गया जो 100 फ़ीट लंबा और जिसका वजम 80 टन था.

46. प्रकाश को धरती के नजदीक आने में तक़रीबन 13 सेकण्ड लगते है.

Updated: 16th January 2018 — 11:18 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ગુરુબ્રાહ્મણસમાજ.com નું ઓનલાઈન કોર્સીસ સમન્વય

TET-2 728-90 Psi 728-90Bin Sachivalay clerk 728-90
Guru Brahman Samaj © 2015- 2017 Frontier Theme